Tuesday, October 25, 2016

होने दे सुबह

तेरी मंज़िल खोले बाहें
चल हसते-गाते राहें
मौसम भी संग है सारे
कुछ कह रहे है ये तारे

न रूकने दे कदम
भूला दे सारे गम
हर मुश्किल को निगल कर तू निकल
होने दे सुबह, खुलने दे पंख
किरनों के संग तू बादलों पे चल
वादियों में घूम, हवाओं संग झूम
आसमाँ को चूम, तू जी ले हर पल

खुशियों के बरसे मोती
जुगनू बन जाये ज्योति
हर दिन रंग लाये होली
सौगातें भर दे झोली

ऐसा हो ये सफ़र
साया हो हमसफ़र
यादों को बाँध के तू फिर निकल
होठों पे हसीं, दिल मे जगी
ख़्वाबों की टोली तू संग ले के चल
गिर जा कभी, संभल जा कभी
थाम ले उसे, जो कहे ऐसी गल

वो है तेरा जो है तुझमे
समझ़ ले, ना दे बुझने
उम्मीदों के ये शोले
बो देना थोडे मुझमे

Monday, October 3, 2016

अनोखी दुनिया

धुएँ में लहराती खयालों की अनोखी दुनिया

सफेद लकीरों से झाँकते कुछ चेहरे
अनदेखे, अनगिनत, गुमनाम चेहरे
घने अंधेरों में उठी लकीरों की लहरें
अपने ही इंतिज़ार में दूर बैठे सबेरे
बुझी बत्तियों में महकती चद्दर ओढे दुनिया
धुएँ मे लहराती खयालों की अनोखी दुनिया

आँसूओं की रवानी में डुबे कुछ ख्वाब
खिलखिलाती मुस्कानों पर बूने कई ख्वाब
रेशमी लिबासों में लिपटे अनसुने जवाब
रंगीन खयालों में बजता सुरीला रबाब
सर्द रातों में सिसकती रूमानी दुनिया
धुएँ में लहराती खयालों की अनोखी दुनिया

पूनम के चाँद में जगमगाती हसीन सादगी
टिमटिमाते तारों संग चमचमाती सादगी
झील-झरनों में बहती बहकती दीवानगी
पेड़-पत्तों की छांव से गुज़रती जिंदगी
गहरे धुंध में मदहोश सारी दुनिया
धुएँ में लहराती खयालों की अनोखी दुनिया