Tuesday, June 7, 2016

बचपन

हल्ला मचाये किसी आंगन की मिट्टी
खुशियों की गोली लिए नन्हीसी मुठ्ठी

गोली की बोली बतलाए मीठे सपने
कंचो की टक्कर मे मद़होश अपने

उड़ने की चाह लिए दौडे़ दिनभर
दा़दी की गोद़ ही क्यारी रातभर

चुस्की मे डुबती शामें अनगिनी
तारों मे छुपी पहेली अनसुनी

मांजे मे उलझा मासूम शोरगुल
बारीश की बूंदों मे हो गये हम चुल्ल

खरोंचो के द़ाग से झांकता बचपन
खट्टी इमली मे लिपटा बचपन
मिठी लोरियों मे गुंजता बचपन
जामून के पेड़ मे अट़का बचपन

No comments:

Post a Comment