Saturday, September 28, 2013

किसी मोड पर...

ऐसे ही किसी मोड पर,
मौत से हुई मुलाकात
किसी रोज मिलूंगी तुझसे
कह गई बस यह बात

वक्त से ना कोई परे
जिंदगी मे सब ही है हारे
गुजरने का गम पलभर
हर हाल मे चलना है प्यारे

सांस मे समायी है पुरी
एक धडकन की बस है दूरी
चल निकलेंगे इस दुनिया से
न छोड कोई तमन्ना अधुरी

अंत न यह किसी सफर का
रिआयत है इक मुकाम का
संग मेरे ले तू आनंद
जिंदगी की इक शुरुआत का

No comments:

Post a Comment